Home / GST in Hindi / GST Rate in Hindi, जीएसटी दर (सभी आइटम) 2017, GST Rates in India in Hindi

GST Rate in Hindi, जीएसटी दर (सभी आइटम) 2017, GST Rates in India in Hindi

GST Rate in Hindi 2017, जी.एस.टी. एवं कर की दर, GST Rates in India in Hindi. Check GST Rates India from Below. GST Rate on Gold, New GST Rates in India in Hindi, GST & Petroleum Products, GST and Consumers. Recently Govt Finalised GST Rates in India. Hi Friends In this article we provide complete analysis of GST Rate in Hindi. Check GST Standard GST Rate, Highest Rate of GST, Lowest Rate of GST, Check GST Rates Slab. On 3rd Nov 2016 Govt Finalised GST Rates in India and Here we provide complete information forGST Rate in Hindi, We already provided Complete information regarding”GST Rate in India, GST Rates in India, Worldwide GST Rates 2017 in English” Now scroll down below n check more details for “GST Rate in Hindi, जी.एस.टी. एवं कर की दर, GST Rates in India in Hindi”.

GST Rate in Hindi, जी.एस.टी. एवं कर की दर, GST Rates in India in Hindi

GST Rate in Hindi

GST Rates 0n Services in Hindi

0% GST Rate Services – नॉन-एसी ट्रेन टिकट, मेट्रो, बस, ऑटो, शिक्षा, स्वास्थ्य, धार्मिक और चैरिटेबल सेवाएं, टोल, बिजली, रिहायशी घर का किराया, पीएफआरडीए, ईपीएफओ और ईएसआईसी की सेवाएं, म्यूजियम, नेशनल पार्क में एंट्री, जनधन और अटल पेंशन जैसी सरकारी योजनाएं, 1,000 रुपए तक किराये वाले होटल, दूध, नमक, आटा, दाल, चावल जैसी चीजों की ढुलाई।

5% GST Rate Services – ट्रेन या ट्रक से माल ढुलाई, एसी ट्रेन टिकट, कैब सेवा, विमान का इकोनॉमी क्लास का टिकट, टूर ऑपरेटर सर्विसेज, विमान की लीजिंग, प्रिंट मीडिया में एडवर्टाइजिंग।

12% GST Rate Services – रेलवे कंटेनर से सामान ढुलाई, विमान का बिजनेस क्लास का टिकट, नॉन-एसी रेस्तरां में खाना, रोजाना 1000-2500 रुपए किराये वाला होटल, कॉम्प्लेक्स या बिल्डिंग का कंस्ट्रक्शन, पेटेंट अधिकार का अस्थायी ट्रांसफर।

18% GST Rate Services – फोन बिल, बैंकिंग, बीमा और अन्य फाइनेंशियल सर्विसेज, एसी और शराब लाइसेंस वाले रेस्तरां, आउटडोर कैटरिंग में खाने की सप्लाई, रोजाना 2500-5000 रु. किराए वाले होटल, सर्कस, क्लासिकल और फोक डांस, थियेटर और ड्रामा के 250 रु. से ज्यादा के टिकट, वर्क्स कॉन्ट्रैक्ट की कंपोजिट सप्लाई।

28% GST Rate Services – सिनेमा टिकट,थीम पार्क, वाटर पार्क, मेरी-गो-राउंड, गोकार्टिंग, कैसिनो, रेसकोर्स, बैले, आईपीएल जैसे स्पोर्ट्स इवेंट, फाइव स्टार या इससे अधिक रेटिंग वाले होटल के रेस्तरां, रोजाना 5,000 रुपए से अधिक रूम रेंट वाले होटल, गैंबलिंग।

इन प्रोडक्ट्स पर 28% टैक्स के साथ सेस भी लगेंगे

  • पेट्रोल: 4 मीटर से कम लंबी, 1200 सीसी से कम इंजन, कैपेसिटी- 1%, सेस कुल टैक्स 29%।
  • डीजल: 4 मीटर से कम लंबी, 1500 सीसी से कम इंजन, कैपेसिटी- 3%, सेस कुल टैक्स 31%।
  • अन्य सभी कार और एसयूवी: 15% सेस, कुल टैक्स 43%।
  • मोटरसाइकिल 350 सीसी से ज्यादा कैपेसिटी वाली: 3% सेस, कुल टैक्स 31%।
  • प्राइवेट प्लेन और याट: 3% सेस, कुल टैक्स 31%।
  • कोल्ड ड्रिंक्स, लेमोनेड: 12% सेस, कुल टैक्स 40%।
  • बिना तंबाकू के पान मसाले: 60% सेस, कुल टैक्स 88%।
  • तंबाकू वाला गुटखा: 204% सेस. कुल टैक्स 232%।
  • अन्य तंबाकू प्रोडक्ट्स: 61-160% सेस, कुल टैक्स 89-188%

GST Rates on Goods in Hindi

0% GST Rates Items – गेहूं, चावल, दूसरे अनाज, आटा, मैदा, बेसन, चूड़ा, मूड़ी (मुरमुरे), खोई, ब्रेड, गुड़, दूध, दही, लस्सी, खुला पनीर, अंडे, मीट-मछली, शहद, ताजी फल-सब्जियां, प्रसाद, नमक, सेंधा/काला नमक, कुमकुम, बिंदी, सिंदूर, चूड़ियां, पान के पत्ते, गर्भनिरोधक, स्टांप पेपर, कोर्ट के कागजात, डाक विभाग के पोस्टकार्ड/लिफाफे, किताबें, स्लेट-पेंसिल, चॉक, समाचार पत्र-पत्रिकाएं, मैप, एटलस, ग्लोब, हैंडलूम, मिट्टी के बर्तन, खेती में इस्तेमाल होने वाले औजार, बीज, बिना ब्रांड के ऑर्गेनिक खाद, सभी तरह के गर्भनिरोधक, ब्लड, सुनने की मशीन।

5% GST Rates Items – ब्रांडेड अनाज, ब्रांडेड आटा, ब्रांडेड शहद, चीनी, चाय, कॉफी, मिठाइयां, खाद्य तेल, स्किम्ड मिल्क पाउडर, बच्चों के मिल्क फूड, रस्क, पिज्जा ब्रेड, टोस्ट ब्रेड, पेस्ट्री मिक्स, प्रोसेस्ड/फ्रोजन फल-सब्जियां, पैकिंग वाला पनीर, ड्राई फिश, न्यूजप्रिंट, ब्रोशर, लीफलेट, राशन का केरोसिन, रसोई गैस, झाडू, क्रीम, मसाले, जूस, साबूदाना, जड़ी-बूटी, लौंग, दालचीनी, जायफल, जीवन रक्षक दवाएं, स्टेंट, ब्लड वैक्सीन, हेपेटाइटिस डायग्नोसिस किट, ड्रग फॉर्मूलेशन, क्रच, व्हीलचेयर, ट्रायसाइकिल, लाइफबोट, हैंडपंप और उसके पार्ट्स, सोलर वाटर हीटर, रिन्यूएबल एनर्जी डिवाइस, ईंट, मिट्टी के टाइल्स, साइकिल-रिक्शा के टायर, कोयला, लिग्नाइट, कोक, कोल गैस, सभी ओर (अयस्क) और कंसेंट्रेट, राशन का केरोसिन, रसोई गैस।

12% GST Rates Items – नमकीन, भुजिया, बटर ऑयल, घी, मोबाइल फोन, ड्राई फ्रूट, फ्रूट और वेजिटेबल जूस, सोया मिल्क जूस और दूध युक्त ड्रिंक्स, प्रोसेस्ड/फ्रोजन मीट-मछली, अगरबत्ती, कैंडल, आयुर्वेदिक-यूनानी-सिद्धा-होम्यो दवाएं, गॉज, बैंडेज, प्लास्टर, ऑर्थोपेडिक उपकरण, टूथ पाउडर, सिलाई मशीन और इसकी सुई, बायो गैस, एक्सरसाइज बुक, क्राफ्ट पेपर, पेपर बॉक्स, बच्चों की ड्रॉइंग और कलर बुक, प्रिंटेड कार्ड, चश्मे का लेंस, पेंसिल शार्पनर, छुरी, कॉयर मैट्रेस, एलईडी लाइट, किचन और टॉयलेट के सेरेमिक आइटम, स्टील, तांबे और एल्यूमीनियम के बर्तन, इलेक्ट्रिक वाहन, साइकिल और पार्ट्स, खेल के सामान, खिलौने वाली साइकिल, कार और स्कूटर, आर्ट वर्क, मार्बल/ग्रेनाइट ब्लॉक, छाता, वाकिंग स्टिक, फ्लाईएश की ईंटें, कंघी, पेंसिल, क्रेयॉन।

18% GST Rates Items – हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट, कॉर्न फ्लेक्स, पेस्ट्री, केक, जैम-जेली, आइसक्रीम, इंस्टैंट फूड, शुगर कन्फेक्शनरी, फूड मिक्स, सॉफ्ट ड्रिंक्स कंसेंट्रेट, डायबेटिक फूड, निकोटिन गम, मिनरल वॉटर, हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट, कॉयर मैट्रेस, कॉटन पिलो, रजिस्टर, अकाउंट बुक, नोटबुक, इरेजर, फाउंटेन पेन, नैपकिन, टिश्यू पेपर, टॉयलेट पेपर, कैमरा, स्पीकर, प्लास्टिक प्रोडक्ट, हेलमेट, कैन, पाइप, शीट, कीटनाशक, रिफ्रैक्टरी सीमेंट, बायोडीजल, प्लास्टिक के ट्यूब, पाइप और घरेलू सामान, सेरेमिक-पोर्सिलेन-चाइना से बनी घरेलू चीजें, कांच की बोतल-जार-बर्तन, स्टील के ट-बार-एंगल-ट्यूब-पाइप-नट-बोल्ट, एलपीजी स्टोव, इलेक्ट्रिक मोटर और जेनरेटर, ऑप्टिकल फाइबर, चश्मे का फ्रेम, गॉगल्स, विकलांगों की कार।

28% GST Rates Items – कस्टर्ड पाउडर, इंस्टैंट कॉफी, चॉकलेट, परफ्यूम, शैंपू, ब्यूटी या मेकअप के सामान, डियोड्रेंट, हेयर डाइ/क्रीम, पाउडर, स्किन केयर प्रोडक्ट, सनस्क्रीन लोशन, मैनिक्योर/पैडीक्योर प्रोडक्ट, शेविंग क्रीम, रेजर, आफ्टरशेव, लिक्विड सोप, डिटरजेंट, एल्युमीनियम फ्वायल, टीवी, फ्रिज, वाशिंग मशीन, वैक्यूम क्लीनर, डिश वाशर, इलेक्ट्रिक हीटर, इलेक्ट्रिक हॉट प्लेट, प्रिंटर, फोटो कॉपी और फैक्स मशीन, लेदर प्रोडक्ट, विग, घड़ियां, वीडियो गेम कंसोल, सीमेंट, पेंट-वार्निश, पुट्टी, प्लाई बोर्ड, मार्बल/ग्रेनाइट (ब्लॉक नहीं), प्लास्टर, माइका, स्टील पाइप, टाइल्स और सेरामिक्स प्रोडक्ट, प्लास्टिक की फ्लोर कवरिंग और बाथ फिटिंग्स, कार-बस-ट्रक के ट्यूब-टायर, लैंप, लाइट फिटिंग्स, एल्युमिनियम के डोर-विंडो फ्रेम, इनसुलेटेड वायर-केबल।

GST Council Meeting Updates in Hindi

किन्हें कम टैक्स स्लैब में रखा गया?

रेलवे, एयर और ट्रांसपोर्ट को 5% के सबसे कम स्लैब में रखा गया है क्योंकि ये पेट्रोलियम इंडस्ट्री पर निर्भर हैं। पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स को GST से बाहर रखा गया है।

New Updates

  • सोना, सिगरेट, बीड़ी, टेक्सटाइल, फुटवियर और बायो डीजल जैसे 6 गुड्स एंड सर्विसेस के टैक्स रेट तय नहीं हो पाए हैं। इसके लिए 3 जून को दिल्ली में फिर मीटिंग होगी। नए टैक्स रेट 1 जुलाई से लागू हो जाएंगे।
  • AC रेल टिकट पर 5%, रेस्टोरेंट में 17% तक टैक्स
  • ट्रक ट्रांसपोर्ट पर अभी 70% अबेटमेंट है। यानी 30% हिस्से पर 15% टैक्स लगता है। यह बिल का 4.5% ही होता है। GST में 5% टैक्स कम रखा गया है, क्योंकि इसका मेन इनपुट पेट्रोल-डीजल जीएसटी से बाहर है। इसलिए इनपुट टैक्स क्रेडिट नहीं मिलेगा।
  • मेट्रो, लोकल ट्रेन, रिलिजियस और हज यात्राओं पर अभी टैक्स नहीं है। नॉन-एसी ट्रेन के टिकट पर भी कोई टैक्स नहीं लगता है। एसी ट्रेन टिकट पर टैक्स नहीं। GST में भी मेट्रो, लोकल ट्रेन, धार्मिक यात्राओं, नॉन-एसी ट्रेन के टिकट पर टैक्स नहीं होगा। एसी ट्रेन टिकट पर 5% टैक्स।

1# टेलिकॉम सर्विसेज पर टैक्स बढ़ा

टेलिकॉम सर्विसेज पर 12 फीसदी रेट तय किया गया। अभी इस पर सर्विस टैक्स 15 फीसदी है। इससे साफ है कि जीएसटी में टेलिकॉम सर्विसेज सस्ती हो जाएंगी।

2# 18% के टैक्स स्लैब में ब्रांडेड गारमेंट

केरल के वित्‍त मंत्री थॉमस इसाक के मुताबिक, “हेल्‍थकेयर और एजुकेशन सर्विसेज को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है। ब्रांडेड गारमेंट पर जीएसटी की दर 18 फीसदी तय की गई है।

3# फाइनेंशियल सर्विसेस पर 3% टैक्स बढ़ा

अभी तक बैंकिंग, इन्श्योरेंस समेत फाइनेंशियल सर्विसेज पर 15 फीसदी सर्विस टैक्स था। GST में टैक्स रेट 18 फीसदी होने से ये सर्विसेज महंगी हो जाएंगी।

5#सस्‍ते होटल जीएसटी के दायरे से बाहर

  • प्रति कमरा 1 हजार रुपए से कम किराये वाले होटलों को जीएसटी के दायरे से बाहर रखा गया है।
  • 1 हजार रुपए से 2500 रुपए के कमरे वाले होटलों पर 12 फीसदी टैक्स रेट लागू होगा।
  • 2500 रुपए से 5 हजार रुपए के कमरे वाले होटलों पर 18 फीसदी की दर से टैक्स रेट लगेगा।
  • वहीं 5 हजार रुपए से ज्‍यादा किराये वाले होटलों पर 24 फीसदी टैक्स रेट लगेगा।
  • फाइव स्‍टार होटलों पर 28 फीसदी रेट लागू होगा।
  • नॉन AC पर 12% और AC, लिकर लाइसेंस वालों पर 18 सर्विस टैक्स लगेगा।
  • 50 लाख या उससे कम सालाना टर्नओवर वाले छोटे रेस्टोरेंट्स की सर्विसेस पर 5% टैक्स लगेगा।

रेस्टोरेंट या होटल में खाना कितना महंगा?

फूड बिल के 40% हिस्से पर 15% टैक्स लगता है। पूरे बिल के हिसाब से जोड़ेंगे तो यह 6% होता है। अभी वैट पूरे बिल पर 5% लगता है। दोनों को जोड़कर खाने पर कुल टैक्स 11% लगता है। जीएसटी में इसे तीन हिस्सों में बांटा गया है।

  1. नॉन-एसी रेस्टोरेंट: फूड बिल पर 12% टैक्स लगेगा। यानी 1% ज्यादा।
  2. शराब लाइसेंस और एसी वाले रेस्टोरेंट: 18% टैक्स। यानी 7% ज्यादा।
  3. लग्जरी रेस्टोरेंट:28% टैक्स रेट लागू होगा। यानी 17% ज्यादा।

 

ऐप से कैब बुक कराने पर कितना टैक्स?

जीएसटी के तहत कैब एग्रीगेटर्स पर 5% की दर से टैक्स लिया जाएगा।

6#ट्रांसपोर्ट सर्विसेज पर

कुछ ट्रांसपोर्ट सर्विसेज के लिए टैक्स रेट 5 फीसदी तय की गई है।

7# सिनेमा हॉल पर 28 फीसदी टैक्स

जीएसटी के तहत सिनेमा हॉल पर 28 फीसदी सर्विस टैक्स लगेगा।

8# गैंबलिंग पर लगेगा 28 फीसदी टैक्स

गैंबलिंग, रेसकोर्स और बेटिंग को 28 फीसदी टैक्स के दायरे में रखा गया है।

GST Rate Details in Hindi

18-05-2017: श्रीनगर में शुरू हुई गुड्स एंड सर्विसेस टैक्‍स काउंसिल की मीटिंग में करीब 80 से 90 फीसदी आइटम्स पर जीएसटी की दरों पर रजामंदी बन गई है। इनमें से करीब 81 फीसदी आइटमों पर 18 फीसदी से कम जीएसटी की दर लागू होगी। अनाज और दूध को जीएसटी दायरे से बाहर रखा गया है।

एक जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद सबसे ज्यादा सेस 204% पान मसाला, गुटखा पर लिया जाएगा। इसके अलावा कोल्ड ड्रिंक्स पर 12% और बड़ी कारों पर 15% तक सेस लगेगा

Must – 

GST Rate List 2017 in Hindi

इस लिस्ट के मुताबिक 1 जुलाई से जीएसटी लागू होने के बाद अनाज सस्ते हो जाएंगे। काउंसिल ने इन पर टैक्स नहीं लगाने का फैसला किया है। अभी कुछ राज्य गेहूं और चावल पर वैट लगाते हैं। जीएसटी के बाद वैट खत्म हो जाएगा। दूध-दही पहले की तरह टैक्स के दायरे से बाहर रहेंगे। लेकिन मिठाई पर 5% टैक्स लगेगा। रोजाना इस्तेमाल होने वाली चीजें, जैसे हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट भी सस्ते होंगे। इन पर सिर्फ 18% टैक्स लगेगा। यह अब तक एक्साइज और वैट मिलाकर 22 से 24% तक था। यानी ये चीजें 4 से 6% तक सस्ती हो सकती हैं। वैसे चीनी, चाय, कॉफी (इंस्टेंट नहीं) और खाद्य तेल पर 5% टैक्स रेट लागू होगा। इन पर मौजूदा रेट भी इसी के आसपास है। सॉफ्ट ड्रिंक्स और कारों पर 28% टैक्स रेट लागू होगा। कारों पर सेस भी लगेगा। एसी, फ्रिज भी 28% टैक्स दायरे में रखे गए हैं। जीवन रक्षक दवाएं 5% की श्रेणी में रखी गई हैं।

पैकेज्ड और ब्रांडेड फूड पर रेट तय होना अभी बाकी

फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली की अगुआई में गुरुवार को हुई जीएसटी काउंसिल की बैठक में टैक्स रेट को अंतिम रूप दिया गया। जेटली ने बताया कि पैकेज्ड और ब्रांडेड फूड पर रेट अभी तय होना है। सर्विसेस पर शुक्रवार को विचार होगा। सभी आइटम्स और सविर्सेस पर टैक्स रेट को लेकर शुक्रवार को फैसला नहीं हो सका तो इसके लिए काउंसिल की एक और मीटिंग होगी। मंत्री ने कहा कि गुरुवार को जिन आइटम्स पर विचार हुआ, उनमें किसी पर भी टैक्स रेट नहीं बढ़ा है। कुछ पर कम ही हुआ है। छूट वाले आइटम्स की लिस्ट शुक्रवार को तय होने की उम्मीद है। अभी 299 चीजों को एक्साइज और 99 को राज्यों के वैट से छूट मिली हुई है।

बिजली और स्टील सस्ते होने के आसार

कोयले पर टैक्स रेट 11.69% से घटाकर 5% किया गया है। इससे कोयले से बिजली बनाना सस्ता होगा। लोगों के लिए भी रेट घट सकते हैं। जीएसटी कानून में कहा गया है कि कंपनियों को कॉस्ट में बचत का फायदा कस्टमर्स को देना होगा। हालांकि बिजली कितनी सस्ती होगी, यह कहना अभी मुश्किल है, क्योंकि कोयले और बिजली पर कई जगह टैक्स लगते हैं। स्टील इंडस्ट्री में भी कोयले का इस्तेमाल होता है। उसका खर्च भी कम होगा। इससे स्टील प्रोडक्ट भी सस्ते होने की उम्मीद है।

सबसे ज्यादा असर मेकअप के सामानों पर; 11% तक बढ़ेगा टैक्स, चीनी पर 13% तक टैक्स कम होगा

अनाज और उसके प्रोडक्ट

  • 00% गेहूं, चावल, दूसरे अनाज, आटा, मैदा, बेसन, चूड़ा, मूड़ी, खोई, ब्रेड (कुछ राज्य कुछ प्रोडक्ट पर वैट लगाते हैं। वहां सस्ते होंगे)
  • 05% रस्क, पिज्जा ब्रेड (इन पर अभी करीब 6% टैक्स है, ये 1% टैक्स कम होगा।)
  • 12% नमकीन भुजिया, मिक्सचर (एक्साइज 12.5%, वैट 5%, टैक्स 6% घटेगा।)
  • 18% पास्ता, नूडल्स, पेस्ट्री, केक, (एक्साइज 12.5%, वैट 5%, टैक्स 0.1% घटेगा।)

डेयरी प्रोडक्ट

  • 00% दूध, दही, लस्सी, पनीर (इन पर अब भी टैक्स नहीं लगता।)
  • 05% बच्चों के मिल्क फूड
  • 12% घी, चीज, बटर ऑयल (अभी 5% टैक्स है, 7% बढ़ जाएगा।)
  • 18% कंडेंस्ड मिल्क (अभी एक्साइज 12.5%, वैट 5%, टैक्स 0.1% घटेगा।)

फल-सब्जियां, इनके प्रोडक्ट

  • 00%कच्ची सब्जियां और फल (अब भी टैक्स नहीं लगता।)
  • 5%प्रोसेस्ड फल-सब्जियां (एक्साइज और वैट मिलाकर 11%, टैक्स 6.5% घटेगा।)
  • 12% फ्रूट-वेजिटेबल जूस, जूस और दूध युक्त ड्रिंक्स, (एक्साइज+वैट=11.5%, टैक्स 0.5% घटेगा।)
  • 18% जैम, जेली (एक्साइज और वैट मिलाकर 11.5%, टैक्स 6.5% बढ़ेगा।)
  • 05% चाय-कॉफी (अभी एक्साइज और वैट मिलाकर 18.1%, टैक्स 13.1% कम।)

चीनी-कन्फेक्शनरी

  • 05%चीनी, खांडसारी (अभी चीनी पर 18.1%- खांडसारी पर 6% टैक्स, दोनों सस्ते।)
  • 18% फ्लेवर्ड चीनी (अभी एक्साइज और वैट मिलाकर 18.1%, टैक्स 0.1% घटेगा।)
  • 28% च्यूइंग गम (अभी एक्साइज और वैट मिलाकर 17%, टैक्स 11% बढ़ेगा।)

कॉस्मेटिक्स

  • 00% कुमकुम, बिंदी, सिंदूर (इन पर अब भी टैक्स नहीं लगता।)
  • 12% अगरबत्ती (12.5% एक्साइज लगता है, यह सस्ता होगा।)
  • 18% हेयर ऑयल, साबुन, टूथपेस्ट (अभी एक्साइज+वैट 17%, टैक्स 1% बढ़ेगा।)
  • 28% मेकअप के सामान, सनस्क्रीन लोशन, शैम्पू, हेयर क्रीम, हेयर कलर/डाइ, शेविंग क्रीम, डिओड्रेंट (अभी एक्साइज और वैट मिलाकर 17%, टैक्स 11% बढ़ जाएगा।)

प्लास्टिक की चीजें

  • 18% किचन के सामान, केन, पाइप, शीट (अभी एक्साइज और वैट मिलाकर 18.1% है, टैक्स 0.1% कम होगा।)
  • 28% फ्लोर कवरिंग, बाथरूम के सामान (अभी 12.5% एक्साइज और 5% वैट, कुल 18.1%, टैक्स 9.9% बढ़ेगा।)
    (नोट : वैट, एक्साइज लगने के बाद जोड़ा जाता है।)

गुटखा,तंबाकू पर सबसे ज्यादा सेस

  • जीएसटी काउंसिल द्वारा तय किए गए सेस रेट का सबसे ज्यादा असर पान मसाला गुटखा, सिगरेट, तंबाकू पर पड़ेगा। इसके तहत पाना मसाला पर 60% सेस तो तंबाकू पर 71-204% तक लेवी लगेगी।
  • वहीं, खैनी, जर्दा पर 160% तक सेस लगाने का प्रपोजल है। इसी तरह फिल्टर-नॉन फिल्टर सिगरेट की विभिन्न कैटेगरी पर 5% सेस देना होगा। लिहाजा पान मसाला, गुटखा, तंबाकू, सिगरेट पर सेस लगने से उनके दाम में इजाफा हो सकता है।
  • नॉन फिल्टर सिगरेट (70 mm से ज्यादा न हो) पर 5% सेस के हिसाब से 2,876 रु. देना होगा। वहीं फिल्टर सिगरेट पर 5% लेवी के हिसाब से 2,126 रु. देने होंगे। प्रति हजार सिगार पर 21% या 4,170 में से जो ज्यादा हो, उतना लेवी लिया जाएगा।
  • ब्रांडेड गुटखे पर 72% सेस, वहीं पाइप में इस्तेमाल किए जाने वाले स्मोकिंग मिक्सचर पर 290% लेवी लिया जाएगा।
  • कोयले (पीट-लिग्नाइट) के हर टन पर 400 रुपए लेवी होगी।
किस कार पर कितना सेस?
कार सेगमेंट
लंबाई और सीसी
सेस (फीसदी)
छोटी (पेट्रोल)
4 मी से कम और 1200 सीसी से कम
1
छोटी (डीजल)
4 मी से कम और 1500 सीसी से कम
3
मिड सेगमेंट
1500 सीसी से कम
15
बड़ी कार
1500 सीसी से ज्यादा
15
एसयूवी
4 मी से कम और 1500 सीसी से कम
15
मिग सेगमेंट हाइब्रिड
1500 सीसी से कम
15
हाइब्रिड
1500 सीसी से कम
15
हाइड्रोजन व्हीकल
4 मीटर से कम
15
मोटरसाइकिल
1500 सीसी से कम
3
एयरक्रॉफ्ट (पर्सनल यूज)
3
याच
3

इन 5 देशों में जीएसटी लागू हुआ तो जीडीपी गिरी

ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, जापान, मलेशिया और सिंगापुर ने 1991 से 2000 के बीच जीएसटी लागू किया। 1994 में जब सिंगापुर ने जीएसटी लागू किया तो उस साल जीडीपी में बड़ी गिरावट दर्ज हुई। आईएमएफ के मुताबिक जीएसटी लागू होने से पहले सिंगापुर की जीडीपी 5.5% थी, जबकि जीएसटी लागू करने के बाद यह नेगेटिव में चली गई और -3% तक लुढ़क गई।

जी.एस.टी. एवं कर की दर

केंद्र और राज्य सरकार की जी.एस.टी. कौंसिल  के सदस्यों ने  कर की दरों के सम्बन्ध में एक बड़ा फैसला ले लिया है और उनके द्वारा 4 दरों की बात की कई है. यह दरें 5 प्रतिशत , 12 प्रतिशत , 18 प्रतिशत  एवं 28 प्रतिशत होंगी . इन दरों के दौरान करयोग्य वस्तुओं की सूची जारी नहीं की गई है इसलिए इस समय यह तो नहीं कहा जा सकता कि कौनसी वस्तु किस कर की दर के तहत आएगी और कौनसी वस्तु करमुक्त होगी.

खाद्यान सहित आवश्यक उपभोग की कई वस्तुओं को टैक्स फ्री रखा गया है. इस लिहाज से उपभोक्ता मूल्‍य सूचकांक में शामिल तमाम वस्तुओं में से करीब 50 प्रतिशत वस्तुओं पर कोई कर नहीं लगेगा. इन्हें शून्य कर की श्रेणी में रखा गया है.

सबसे निम्न दर आम उपभोग की वस्तुओं पर लागू होगी जो कि 5 प्रतिशत की दर होगी . शेष वस्तुओं पर या तो 12 प्रतिशत कर की दर होगी या फिर 18 प्रतिशत जिसे की “स्टैण्डर्ड रेट” कहा गया है जबकि सबसे ऊंची दर विलासिता और तंबाकू जैसी अहितकर वस्तुओं पर लागू होगी. ऊंची दर के साथ इन पर अतिरिक्त उपकर भी लगाया जायेगा.

सोने पर 4 प्रतिशत की दर लगाए जाने की संभावना है लेकिन आधिकारिक रूप से अभी इस सम्बन्ध में कुछ नहीं आया है .

करमुक्त वस्तुओं की सूची एवं हर कर की दर में समाहित वस्तुओं की सूचि की भी अभी प्रतीक्षा है .

जी.एस.टी. एवं पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स

पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स जी.एस.टी. के भीतर भी रखा जा सकता है और इन पदार्थो को अभी जिस तरह से वेट से बाहर रखकर कर लगाया जाता है वैसा भी किया जा सकता है लेकिन फिलहाल इन्हें जी.एस.टी. से बाहर रखा जा रहा है . ये तो आपको पता ही होगा कि वर्तमान में पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स वेट से बाहर है और जिन कारणों से ये पदार्थ वेट से बाहर रखे गए है उन्ही कारणों से इन्हें जी.एस.टी. से भी बाहर रखा जाएगा  .

यहाँ ध्यान रखे कि केंद्र एवं राज्य दोनों ही अपने राजस्व का बहुत बड़ा भाग इन पदार्थो पर लगने वाले “सेंट्रल एक्साइज एवं वेट” से एकत्र करते है और यह इनके लिए बहुत ही सुखद स्तिथी है जिसे दोनों ही छोड़ना नहीं चाहते और ऐसे में यह होगा कि उद्योग एवं व्यापार को पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स पर दिए हुए कर का इनपुट नहीं मिलेगा जैसा कि वेट में नहीं मिलता है .

उपभोक्ता और जी.एस.टी.

उपभोक्ताओं को जी.एस.टी. के बाद वस्तुएं सस्ती मिलेगी और सरकार को राजस्व भी ज्यादा मिलेगा तो एक सवाल उठता है कि ये दोनों आपस में विरोधी परिणाम एक साथ कैसे संभव है और दूसरी बात यह भी है कि कुछ विशेषज्ञों के अनुसार जी.एस.टी. के प्रारम्भिक काल में महगाई बढ़ सकती है तो इस प्रकार से अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि जी.एस.टी. का उपभोक्ताओं पर क्या असर पडेगा.

लेकिन एक बात तो यह है कि इस समय जब भी उपभोक्ता कोई वस्तु खरीदते है तो उन्हें बिल में सिर्फ एक ही कर वेट के रूप में लगा हुआ नजर आता है लेकिन अब जब जी.एस.टी. लागू होगा चाहे वह 1 अप्रैल 2017  हो या इसके बाद कभी भी तो वे जो भी वस्तु खरीदेंगे उसके बिल पर एक की जगह दो टैक्स लगे हुए दिखेंगे और ये कर एस.जी.एस.टी. और  सी.जी.एस.टी. अभी भी वे सेंट्रल एक्साइज का भुगतान कई वस्तुओं पर करते है लेकिन वह लागत एवं कीमत में जुडा होता है और अंतिम उपभोक्ता को बिल में नजर नहीं आता है . इस प्रकार उपभोक्ताओं को अपने द्वारा भुगतान किये गए कर के बारे में कुछ अधिक जानकारी मिलेगी और इसे हम इस अप्रत्यक्ष कर प्रणाली से बढ़ने वाली पारदर्शिता भी कह सकते है .

 Recommended Articles –

If you have any query regarding “GST Rate in Hindi, जी.एस.टी. एवं कर की दर, GST Rates in India in Hindi” then please tell us via below comment box…

3 comments

  1. CCTV kis slab me hai

  2. full detail gst in hindi.

  3. printing work kis slab me hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *